Latest Post

6/recent/ticker-posts

6 Difference Between Single and Double Mode Voucher Entry in Tally


आज की इस पोस्ट में हम Tally Software में प्रयोग होने वाले Single Entry Mode Voucher और Double Entry Mode Voucher में क्या अन्तर है तथा Single Mode और Double Mode Entry के Advantages एवं Disadvantages के बारे में जानेंगे, तो इसे जानने के लिए पूरी पोस्ट को ध्यान से पढ़े, और पोस्ट पसंद आने पर हमें कमेंट्स के माध्यम से बताए की यह पोस्ट आपको कैसी लगी.


Difference Between Single and Double Mode 

Voucher Entry


Single Entry System और Double Entry System के बीच 6 मुख्य अंतर निम्नलिखित हैं:-


6 Difference Between Single and Double Mode Voucher Entry in Tally


1. Single Entry System में लेन-देन का केवल एक पहलू record किया जाता है, जैसे या तो डेबिट या क्रेडिट एंट्री। Double Entry System, रिकॉर्ड रखने की एक प्रणाली है, जिसके तहत लेनदेन के दोनों पहलुओं को लिखा जाता है।


2. सिंगल एंट्री में ट्रांजैक्शन को लिखना सरल और आसान है जबकि डबल एंट्री सिस्टम में जटिल है और इसके लिए लेखांकन में विशेषज्ञता की आवश्यकता होती है।


3. सिंगल एंट्री सिस्टम में, रिकॉर्ड अपूर्ण होते है जबकि डबल एंट्री सिस्टम में लेनदेन की पूरी रिकॉर्डिंग होती है।


4. सिंगल एंट्री सिस्टम व्यक्तिगत और नकद खातों को बनाए रखता है। दूसरी ओर, व्यक्तिगत, वास्तविक और नाममात्र खाते डबल एंट्री सिस्टम में रखे गए हैं।


5. सिंगल एंट्री सिस्टम छोटे उद्यमों के लिए सबसे उपयुक्त है, लेकिन बड़े संगठन डबल एंट्री सिस्टम को ही पसंद करते हैं।


6. डबल एंट्री सिस्टम में धोखाधड़ी और गबन की पहचान करना आसान होता है जबकि सिंगल एंट्री सिस्टम में इसकी पहचान करना उतना आसान नहीं है।


Difference between Direct and Indirect Income with List in hindi


Advantages of Single Mode Entry System

 

1. समझने में आसान : Single Entry System को समझना बहुत आसान है यहां तक ​​कि एक आम आदमी भी समझ सकता है। इसलिए, खाते तैयार करना बहुत आसान है।


2. लागत प्रभावी : सिंगल सिस्टम प्रणाली में हमें किसी लेखाकार और चार्टर्ड अकाउंटेंट की आवश्यकता नहीं होती है.


3. समय की बचत : सिंगल सिस्टम प्रणाली के तहत, हम प्रत्येक लेनदेन के लिए केवल एक प्रविष्टि दर्ज करते हैं, इससे व्यवसाय के लिए समय की बचत होती है


6 Difference Between Single and Double Mode Voucher Entry in Tally


4. लेन-देन का साक्ष्य : एकल प्रविष्टि खाता बही सभी लेनदेन को रिकॉर्ड करती है, इसलिए इसे सबूत के रूप में उपयोग किया जा सकता है।


Disadvantages of Single Entry System

सिंगल एंट्री सिस्टम का नुकसान

1 कम सटीकता : इस प्रणाली में, खाते की सटीकता कम होती है क्योंकि हम लेनदेन के केवल एक पहलू को ही रिकॉर्ड करते हैं।


2. गणना त्रुटि : यदि कोई गणना त्रुटि है तो हमारे पास क्रॉस-चेकिंग का कोई विकल्प नहीं है जैसा कि हमारे पास डबल-एंट्री सिस्टम में होता है।


3. वित्तीय विवरण तैयार करने में सक्षम नहीं : एकल प्रणाली में, हम वित्तीय विवरण लाभ और हानि खाता और बैलेंस शीट तैयार नहीं कर सकते हैं 


4. खाते का हेरफेर : इस प्रणाली के तहत खाते में हेरफेर करना बहुत आसान है कोई क्रॉस-चेक विकल्प नहीं है।

 

Advantages of Double Entry System 
(दोहरा लेखा प्रणाली के लाभ) 


1. वैज्ञानिक प्रणाली – दोहरा लेखा प्रणाली का एक लाभ यह है कि इसमें सारे लेन-देनों को Rules के according record किया जाता है ।


2. हर लेन-देन का पूरा रेकॉर्ड Double Entry System में सारे accounts तीन पार्ट में बाँट दिए जाते हैं। जैसे- Personal Accounts, Real Accounts, और Nominal Accounts और इसी के according सारे लेन-देनों को Debit या Credit किया जाता है। इस तरह इस प्रणाली के अन्तर्गत सारे लेन-देनों का record रखा जाता है।


6 Difference Between Single and Double Mode Voucher Entry in Tally


3. खातों को रीचेक करें : इस प्रणाली में, जब हम दोनों पक्षों में प्रवेश करते हैं, तो खाते को स्वचालित रूप से जांच लिया जाता है। अगर ट्रायल बैलेंस के दोनों पहलू मेल नहीं खाते हैं तो हम आसानी से गलती पा सकते हैं।


4. आसानी से धोखाधड़ी और गलतियाँ : धोखाधड़ी और गलतियाँ आसानी से पाई जा सकती हैं क्योंकि हर लेनदेन के दो रिकॉर्ड होते हैं।


Disadvantages of Double Entry System

बल एंट्री सिस्टम का नुकसान


1. प्रकृति में जटिल : लेखांकन और मानक सिद्धांतों के नियमों और विनियमों की बहुत सारी देखभाल करने के लिए प्रकृति में डबल-एंट्री सिस्टम जटिल है।


2. समय और लागत : लेखांकन पुस्तकों को बनाए रखने के लिए अधिक समय की आवश्यकता होती है इसलिए इसमें अधिक क्लर्क शामिल होता है जिससे लागत में वृद्धि होती है।


3. छोटी फर्मों के लिए नहीं : छोटी फर्में ऐसे व्यक्ति को काम पर नहीं रख सकती हैं जिन्हें लेखांकन का उचित ज्ञान हो ।


4. विशेषज्ञ ज्ञान: यह पुस्तक-रखने के लिए डबल एंट्री सिस्टम का उपयोग करने के लिए खाते के विशेषज्ञ ज्ञान की आवश्यकता है।


5. पुस्तक के आकार में वृद्धि: प्रत्येक लेनदेन को दो स्थानों पर रिकॉर्ड करने की आवश्यकता होती है इसलिए पुस्तकों का आकार बढ़ जाएगा या जिनके पास इलेक्ट्रॉनिक रूप में डेटा है, उस डेटा को संभालने के लिए अधिक शक्तिशाली कंप्यूटर की आवश्यकता है।


Difference between Sundry Debtors and Sundry Creditors in Tally Hindi

Difference between Tally and MS Excel and which is better Software


अन्त में

आशा है की पूरी पोस्ट पढने के बाद आपको Tally Software में प्रयोग होने वाले Single Entry Mode Voucher और Double Entry Mode Voucher में क्या अन्तर है तथा Single Mode और Double Mode Entry के Advantages एवं Disadvantages के बारे में, अगर Tally से सम्बंधित कोई और सवाल हो तो कमेंट्स के माध्यम से पूछ सकते है.


Savings Bank और Current Bank Account के बीच में क्या अंतर है?

Stock को Transfer करने की Entry, Tally में कैसे करे।

TDS क्या है तथा Tally में इसकी Entry कैसे करे?

Tally Groups Details in Hindi with Example

Tally मे Company का Backup कैसे ले तथा Company Restore कैसे करे?

Tally मे Godown कैसे Create करे? जाने पूरा Process

Tally में Price List कैसे बनाए ?

What is Balance Sheet in Tally in Hindi  

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां