Latest Post

6/recent/ticker-posts

Difference between Direct and Indirect Income with List in hindi

आज की इस पोस्ट में हम Direct Income और Indirect Income के बीच अंतर को जानेंगे. यदि आप Tally का उपयोग करते हैं। तो आप के सामने एक समस्या हमेशा बनी रहती है कि किस Ledger को कौन सा Group दे खासकर जो समस्या आती है वो यह की किस Ledger को Direct Income में रखे तथा किस को Indirect Income में। क्योंकि Tally मे गलत Group का चयन करना आप के व्यापार खाते (Trading Account) और लाभ - हानि (Profit and Loss) मे गडबडी कर सकता है जिसके कारण आपका Tally में आने वाला Result भी गड़बड़ हो जाता है तो आज की इस पोस्ट में हम दोनों के बीच के difference को समझेंगे.

Difference between Direct and Indirect Income with List in hindi

 Direct Income किसे कहते है 

Direct Income को हिंदी भाषा में प्रत्यक्ष आय भी कहा जाता है। Direct Income ऐसी आय से होती है। जो हमे व्यवसाय में सीधे माल बिक्री (Goods Sale) करने के पश्चात होती है। जैसे :- यदि हमारी एक स्टेशनरी की दुकान है और दुकान मे रखे हुए किसी पेन का थोक मूल्य 4 रू है तथा हम उस पेन को 5 रू मे बेचते हैं। तो हमे जो 1 रू का लाभ होगा। यही लाभ हमारी प्रत्यक्ष आय (Direct Income) कहलाती है। अर्थात हम कह सकते है की प्रत्यक्ष आय (Direct Income) उस income को कहते है जो व्यवसाय में माल की बिक्री के बाद प्राप्त होती है.

Direct Income List  

Direct Income की लिस्ट इस प्रकार है :-

१.    Any Income from main service like selling goods and service
२.    Freight Charges Income
3.    Delivery Charges Income
4.    Transportation Charges Income
5.    Discount on Purchase etc


Direct Income को P/L Account में कहा लिखा जाता है   

 

Difference between Direct and Indirect Income with List in hindi

सभी तरह की Direct Income  को  P/L Account में व्यापार खाते (Trading Account) मे Credit Side में लिखा जाता है।

Tally Groups Details in Hindi with Example

Indirect Income किसे कहते है।

 

Indirect Income को हिदी भाषा में अप्रत्यक्ष आय कहते हैं।  Indirect Income ऐसी Income को कहा जाता है जो व्यापार मे माल खरीदने और बेचने से संबंधित नहीं होती है यह ऐसी income होती है जो डेली न होकर कभी-कभी होती है जैसे :- यदि हमारी एक स्टेशनरी की दुकान है और दुकान मे रखे हुए किसी पेन के थोक मूल्य 4 रू है तथा हम उस पेन को 5 रू मे बेचते हैं। तो हमे जो 1 रू का लाभ होता है तो यह लाभ हमारी प्रत्यक्ष आय (Direct Income) कहलाती है। अब अगर उस पेन को कस्टमर कहता है की इसे पैक कर दे और हम उस पैकिंग के बदले उस कस्टमर से पैकिंग चार्ज 1 रुपया अतरिक्त ले ले तो वह लाभ indiret income की लिस्ट में लिखा जाता है क्योकि यह जरूरी नहीं था की वो कस्टमर उस पेन को पैक ही कराता . इसी तरह से यदि हमे बैंक में जमा अपनी धनराशी से कुछ ब्याज प्राप्त होता है जो कभी-कभी मिलता है तो इसे भी Indirect Income कहा जाता है।

Indirect Income List

 

.    Rent received

२.    Bank interest received

3.    Old news Papers sale received

 4.    Discount received 

 5.    Commission received etc

Indirect Income को P/L Account में कहा लिखा जाता है   

 

जिस प्रकार से सभी तरह Direct Income को व्यापार खाते (Trading Account) मे Credit Side में लिखा जाता है। उसी प्रकार से व्यवसाय मे जितने भी तरह की Indirect Income होती हैं। उन सभी Indirect Income  को लाभ - हानि (Profit and Loss Account) मे Credit Side में लिखा जाता है। 

TDS क्या है तथा Tally में इसकी Entry कैसे करे?

Tally First Chapter-How to create Company, Alter, Select, Shut and Delete Company

How to Set Tally Accounting Features in Hindi

Launch Tally New Version Tally Prime with New Features & New Look

Proper Setting of Tally Erp9 Accounting, Inventory and Taxation Features


अंत में 

आशा है की पूरी पोस्ट पढने के बाद आपको Direct and Indirect Income के बीच में अंतर समझ में आ गया होगा. अगर इस पोस्ट से सम्बंधित कोई भी सवाल हो तो पूछ सकते है जल्द ही हमारी टीम आपके सवालों का जवाब आपको देगी.

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां