Latest Post

6/recent/ticker-posts

CCC Libre Office Calc Notes

इस पोस्ट के माध्यम से हम Libre Office Calc के बारे मे जानेंगे तो इसे समझने के लिए पूरी Post को ध्यान से पढे और हा अगर Hindi Language मे समझने मे Problem हो तो Website मे दिये हुए Google Translate द्वारा अपनी Language मे Post को Change कर Read कर सकते है। 

CCC Libre Office Calc Notes

Libre Office Calc (Spreadsheet) 


इस साफ्टवेयर का पहला संस्करण 25 January, 2011 को हुआ था इसका निर्माण ‘‘The Document Foundation” द्वारा निःशुल्क किया गया है। यह प्रोग्राम सी प्लस प्लस, जावा, और पाइथन लैंगवेज से बना है। इसका प्रकार आफिस सूट है। लिब्रे आफिस एक ओपन सोर्स साफटवेयर है यह सभी प्रकार के आपरेटिंग सिस्टम पर कार्य करने वाला एक एप्लिकेशन साफ्टवेयर है।


जिस प्रकार से Ms Office Program मे हम Ms Excel होता है उसी प्रकार से Libre Office Calc मे भी हम Spreadsheet मे Formulas का use कर जटिल data को Mathematical, Statical, Financial इत्यादि Formulas का use कर Solution निकाल सकते है। इस Software की तुलना हम Ms Excel Program से कर सकते है। Libre Office Spreadsheet Application Software का Extension ODF Spreadsheet होता है। Libre Office Calc में प्रत्येक Sheet में Cells 1,073,741,824, Rows 1048576 and Column की संख्या 1024 होती है


Libre Office Calc Menu Bar 

HOME MENU 

CCC Libre Office Calc Notes



1. New (Ctrl+N)- इस आप्सन के द्वारा हम नई Spreadsheet File बनाने का कार्य करते है। 



2. Open (Ctrl+O) - इस आप्सन के द्वारा हम पहले से बनी हुई Spreadsheet File को खोलने का कार्य करते है। 


3. Recent Document - इस आप्सन के द्वारा हम हाल ही बनाई गई Spreadsheet File को खोलने का कार्य करते है। 

4. Close (Ctrl+W)- इस आप्सन के द्वारा हम खुली हुई Spreadsheet File को बन्द करने का कार्य करते है। 

5. Wizard (Letter, Fax, Document Converter) - इस आप्सन के द्वारा हम नया लैटर बनाने तथा लिब्रे ऑफिस Calc में बनाई गई फाइल को वर्ड, एक्सल और पावर पाइन्ट में कन्वर्ट करने का कार्य करते है। 


6. Template (Open/Save Template)- इस आप्सन के द्वारा हम लिब्रे आफिस प्रोग्राम में पहले से बनी हुई टेमपलेट को खोलने अथवा बनाई गई Spreadsheet File को टैम्पलेट के रूप में सेव करने का कार्य करते है। 

7. Save (Ctrl+S)- इस आप्सन के द्वारा हम बनाई गई फाइल को सेव करने का कार्य करते है। 

8. Save As, Save All, Save Copy (Ctrl+Shift+S) -इस आप्सन के द्वारा हम पहले से सेव फाइल का नाम तथा लोकेशन बदलने का कार्य करते है। 

9. Export, Export as a PDF- इस आप्सन के द्वारा हम बनाई गई फाइल को किसी अन्य लोकेशन, नार्मल अथवा पी0डी0एफ0 फाइल बनाकर भेजने का कार्य करते है। 

10. Preview in Web Browser - इस आप्सन के द्वारा हमें यह पता चलता है कि अगर हम इस फाइल को वेब ब्राउजर/इंटरनेट पर देखेंगे तो यह किस प्रकार से दिखाई देगी। 

11. Print Preview (Ctrl+Shift+O)- इस आप्सन के द्वारा हम बनाई गई फाइल का प्रिन्ट निकालने से पहले उसका प्रिव्यू देखने का कार्य करते है कि फाइल प्रिन्ट होकर कागज पर किस प्रकार से आयेगी। 

12. Print (Ctrl+P)- इस आप्सन के द्वारा हम बनाई गई फाइल को प्रिन्टर की सहायता से प्रिन्ट करने का कार्य करते है। 

13. Printer Settings - इस आप्सन के द्वारा हमे जिस भी प्रिन्टर से प्रिन्ट निकालना होता है उस प्रिन्टर को सेट करने का कार्य करते है। 

14. Exit (Ctrl+Q) - इस आप्सन पर क्लिक करते ही लिब्रा आफिस प्रोग्राम बन्द करने का कार्य करते है। 





EDIT MENU




1. Undo (Ctrl+Z)- इस आप्सन का प्रयोग हम तब करते है जब गलती से हमसे कोई Data डिलीट हो जाता है तो उसे वापस लाने के लिए। 



2. Redo (Ctrl+Y)- यह आप्सन अंडू का उल्टा होता है । 

3. Cut (Ctrl+X) - इस आप्सन के द्वारा हम सिलेक्ट किये गये Data को कट करने का कार्य करते है। 

4. Copy (Ctrl+C) - इस आप्सन के द्वारा हम सिलेक्ट किये गये Data की कापी करने का कार्य करते है। 

5. Paste (Ctrl+V)- इस आप्सन के द्वारा हम कट और कॉपी किये गये Data को अपनी आवष्यकतानुसार स्थान पर पेस्ट करने का कार्य करते है। 

6. Paste Special - इस आप्सन का प्रयोग हम तब करते है जब किसी अन्य प्रोग्राम से हम पैराग्राफ और ग्राफिक्स दोनो एक साथ कापी करते है तो इस आप्सन के द्वारा हम अपनी आवष्यकतानुसार टैक्सट तथा ग्राफिक्स को पेस्ट करने का कार्य करते है। 

7. Select All (Ctrl+A)- इस आप्सन पर क्लिक करते ही फाइल में टाइप समस्त Data एक बार में ही सिलेक्ट हो जाता है। 

8. Find (Ctrl+F) - इस आप्सन के द्वारा हम टाइप किये गये Data में से Special Data को ढूंढने का कार्य करते है। 

9. Find & Replace (Ctrl+H) - इस आप्सन के द्वारा हम ढूंढे गये Data को किसी अन्य Data से बदलने का कार्य करते है। 

10. Track Change - इस आप्सन को लगाने के बाद हम जो भी Data टाइप करते है वह हाईलाइट होता जाता है और जब हम इसे एक्सेप्ट कर लेते है तो वह नार्मल हो जाता है एवं रिजेक्ट करने पर वो हट जाता है।

CCC Libre Office Impress Notes, लिब्रे ऑफिस इम्प्रेस नोट्स 


VIEW MENU




1. Normal- Libre Office Calc प्रोग्राम में डिफाल्ट रूप से Sheet नार्मल ही होती है। 



2. Page Break - इस आप्सन के द्वारा हम Spreadsheet में पेज वाइज अलग अलग Preview देख सकते है। 

3. User Interface - इस आप्सन के द्वारा हम Spreadsheet के Toolbox इंटरफेस को बदलने का कार्य करते है। 

4. Toolbar- इस आप्सन के द्वारा हम दी गई Toolbars को खोलने एवं बन्द करने का कार्य करते है। 

5. Formula bar/Status bar - इस आप्सन पर एक बार क्लिक करने पर यह बारे Show करती है और दोबारा क्लिक करने पर बन्द हो जाती है। 

6. View Header- इस आप्सन के द्वारा हम Page के Header मे दी गई हैडिंग्स को Show/Hide करने का कार्य करते है। 

7. View Gridlines- इस आप्सन पर एक बार क्लिक करने पर ग्रिडलाइन्स पूरे Spreadsheet पर Show करती है एवं दोबारा क्लिक करने पर Hidden हो जाती है। 

8. Value Highlighting (Ctrl+F8) - इस आप्सन के द्वारा हम सिलेक्ट की गई वैल्यू को हाईलाइट करने का कार्य करते है। 

9. Show Formulas (Ctrl)/Show Comments - इस आप्सन पर क्लिक करने पर Spreadsheet पर लगाये गये सभी Formulas/Comments Show करने लगते है। 

10. Split Window- इस आप्सन के द्वारा हम विन्डो को दो भागों में Break कर देख सकते है। 

11. Freeze Row/Column- इस आप्सन पर क्लिक करते ही सिलेक्ट की गई रो तथा कॉलम फ्रीज अर्थात जाम हो जाती है उसे हम स्क्रॉल नहीं कर सकते जब तक की वापस Unfreeze न की जाए। 

12. Function List – इस option पर क्लिक करते ही Excel मे Use होने वाले Functions (Formulas) की list दिखाई देने लगती है। 

13. Full Screen, Zoom - इस आप्सन के द्वारा हम अपनी फाइल को आवष्यकतानुसार बड़ी एवं छोटी करके देख सकते है। 

CCC EXAM के लिए Libre Office से क्या पढ़े ?


INSERT MENU




1. Pivot Table - इसकी सहायता से हम किसी लम्बे अथवा जटिल डाटा को छोटे व्यू में टेबल अथवा चार्ट में Display कर आसानी से दिखा एवं समझा सकते है। 



2. Image, Chart, Media, Object, Shape - इस आप्सन के द्वारा हम उपरोक्त आइटमस को पेज में इंसर्ट करने का कार्य करते है। 

3. Functions - इस आप्सन के द्वारा हम Excel के Functions को अपनी फ़ाइल मे इंसर्ट करने का कार्य करते है। 

4. Text Box - इस आप्सन के द्वारा हम फ़ाइल मे टैक्सट बॉक्स बनाने का कार्य करते है। 

5. Comment - इस आप्सन के द्वारा हम सिलेक्ट किये गये पैराग्राफ के बारे में कमेन्ट (अपने विचार) लिखने का कार्य करते है। 

6. Font work/Frame work - इस आप्सन के द्वारा हम दिये गये वर्ड के फार्मेट में अपने द्वारा टाइप किये गये लैटर को परिवर्तित कर सकते है। 

7. Hyperlink (Ctrl+K) - इस आप्सन के द्वारा हम अलग-अलग प्रोग्रामों में बनाई गई फाइल को तथा किसी भी Web Page को अपनी फ़ाइल से लिंक अर्थात जोड़ने का कार्य करते है। 

8. Special Character - इस आप्सन के द्वारा हम वह वर्ड इंसर्ट कराने का कार्य करते है जिन्हे हम की-बोर्ड से नहीं बना सकते है। 

9. Date, Time - इस आप्सन पर क्लिक करते ही जहा भी कर्सर होता है वहा पर System का Current Date and Time इंसर्ट हो जाता है। 


10. Fields- दी गई फील्डस को अपनी जरूरत के मुताबिक इंसर्ट करने का कार्य करते है। 

11. Header and Footer - हीडर का मतलब पेज का ऊपरी हिस्सा तथा फूटर का मतलब पेज का निचला हिस्सा और जो कुछ भी हम इसमे लिख देते है वह हमारी फाइल के सभी Sheets पर पहुँच जाता है और किसी भी एक Sheets से हटाने पर सभी Sheets से हट जाता है। 

12. Signature Line - इस आप्सन पर क्लिक करते ही Sheet मे जिस स्थान पर कर्सर होता है वहा पर एक लाइन आ जाती है जिसे हम सिग्नेचर लाइन के नाम से जानते है। 



FORMAT MENU



1. Text- इस आप्सन के द्वारा हम सिलेक्ट किये गये टैक्सट को बोल्ड, इटैलिक, अपरकेस, लोवरकेस इत्यादि फार्मेटिंग मे परिवर्तित कर सकते है। 



2. Spacing - इस आप्सन के द्वारा हम सिलेक्ट किये गये पैराग्राफ में Spacing सेट करने का कार्य करते है। 




3. Alignment - इस आप्सन के द्वारा हम टाइप किए text को Cell मे लैफ्ट, राइट, और सेन्टर मे इलाइन करने का कार्य करते है। 


4. Number Format - इस आप्सन के द्वारा हम type किये गये numbers को गए Number Format मे बदलने का कार्य करते है। 


5. Clone Formatting - इस आप्सन के द्वारा हम एक Cells पर लगायी गई फार्मेटिंग को दूसरी Cells पर apply करने का कार्य करते है। 


6. Clear Direct Formatting- इस आप्सन के द्वारा सिलेक्ट किये गये Cells पर लगाई गई Formatting को हटाने का कार्य करते है। 


7. Cells, Row, Column - इस आप्सन के द्वारा हम सिलेक्ट की गई Cells, Row, Column को दी गई Formatting के अनुसार Set कर सकते है जैसे - Row, Column की Height, Width etc को Change करना इत्यादि। 


8. Merge Cell – इस option के द्वारा हम दो या दो से अधिक Row तथा Column को Select कर Merge अर्थात Single Cell मे परिवर्तित करने का कार्य करते है। 


9. Page- इस आप्सन के द्वारा हम पेज, पेज मार्जिन, पेज orientation इत्यादि सेट करने का कार्य करते है। 


10. Print Ranges – Spreadsheet का जितना भी भाग हमे Print करना होता है वो हम इस option के द्वारा Set कर सकते है तथा Set किए गए भाग को Clear भी कर सकते है। 


11. Conditional Formatting - जितने एरिये में हमें Conditional Formatting लगानी होती है पहले उतने एरिये को हम सिलेक्ट कर लेते है। सिलेक्ट किये गये हिस्से में हमारे द्वारा लगाई गई फार्मेटिंग ही कार्य करती है दूसरी कोई नहीं। जैसे- हमनें सिलेक्ट किये गये हिस्से में फार्मेटिंग सेट की की जब भी हम 5 से 50 के बीच में कोई भी गिनती टाइप करे तो वह हमारे द्वारा लगाये गये फार्मेट के अनुसार आये। फार्मेटिंग को हटाने के लिए हम पुनः उतने हिस्से को सिलेक्ट कर क्लियर फार्मेटिंग पर क्लिक करते है। 


12. Auto Format Style - इस आप्सन के द्वारा हम सिलेक्ट किये गये डाटा को दिये गये सेल अथवा दी गई टेबल के फार्मेट में बदलने का कार्य करते है। 


13. Spreadsheet Themes - इस आप्सन के द्वारा हम दी गई Spreadsheet Themes को Apply करने का कार्य करते है। 



14. Image/Chart/Object - इस आप्सन के द्वारा हम लगाई गई Image/Chart/Object को एडिट करने का कार्य करते है। 


15. Arrange, Flip, Group- इस option के द्वारा हम Select किए गए Graphics को Arrange, Flip तथा दो या दो से अधिक shapes को select कर Group करने का कार्य करते है। 



STYLE MENU




इस मीनू के आप्सन के द्वारा हम सिलेक्ट किये गये Data को दी गई फार्मेटिंग के अनुसार स्टाइल देने का कार्य करते है। 

SHEET MENU


1. Insert Cell, Row, Column - इस आप्सन के द्वारा हम Cell, Row तथा Column को इंसर्ट करने का कार्य करते है। 




2 Insert Page Break- Spreadsheet मे जिस स्थान पर कर्सर होता है उस जगह से पेज ब्रेक हो जाता है। 

3. Delete Cell, Column, Row- इस आप्सन के द्वारा हम सिलेक्ट की गई Cell, Column and Row को डिलीट करने का कार्य करते है। 



4. Delete Page Break- इस आप्सन के द्वारा हम लगाये गये पेज ब्रेक को हटाने का कार्य करते है। 



5. Insert Sheet/ Insert Sheet From File- इस आप्सन के द्वारा हम अपनी फाइल में नई शीट इंसर्ट करने तथा किसी अन्य फाइल की शीट को अपनी फाइल में इंसर्ट करने का कार्य करते है। 


6. Clear Cell - इस आप्सन के द्वारा हम सेल में फिल डाटा को क्लियर (Delete) करने का कार्य करते है। 


7. Fill Cell - इस आप्सन के द्वारा हम टाइप डाटा को सिलेक्ट किये गये सेल में नीचे की ओर, ऊपर की ओर, लैफ्ट, राइट, सीरीज इत्यादि फिल करने का कार्य करते है। 


8. Define Name - इस आप्सन के द्वारा हम Spreadsheet मे दिये हुए फामूर्लो को इंसर्ट करने का कार्य करते है। 


9. Rename Sheet - इस आप्सन के द्वारा हम Current Sheet के नाम को बदलने का कार्य करते है जैसे – Sheet 1 से Lucknow. 


10. Hide Sheet /Show Sheet- इस आप्सन पर क्लिक करते ही Sheet Hide हो जाती है और दोबारा क्लिक पर Unhide हो जाती है। 


11. Move or Copy Sheet - इस आप्सन के द्वारा हम खुली हुई Sheet की डुप्लीकेट कापी अथवा किसी अन्य Sheet पर ले जाने का कार्य करते है। 


12. Navigate Previous Sheet/Next Sheet- इस आप्सन के द्वारा हम File की Previous Sheet अथवा Next Sheet पर जाने का कार्य करते है। 

13. Sheet Tab Color - इस आप्सन के द्वारा हम Sheet के Tab को कलर करने का कार्य करते है। 



DATA MENU


1. Short- इस आप्सन के द्वारा हम टाइप किये गये डाटा को घटते एवं बढ़ते क्रम में सेट करने का कार्य करते है। 




2. Auto Filter/More Filter - इस आप्सन के द्वारा हम सिलेक्ट किये गये डाटा में से किन्ही Special Data को नार्मल एवं एडवांस रूप से फिल्टर करने का कार्य करते है। 


3. Define Range/Select Range- इस आप्सन के द्वारा हम सिलेक्ट की गई सेल को किसी भी नाम से डिफाइन कर देते है और जब भी हमें उस सेल को सिलेक्ट करना होता है तो हम दिये गये नाम से सेल को दोबारा सिलेक्ट कर सकते है। 


4. Pivot Table- इस आप्सन के द्वारा हम किसी लम्बे डाटा को छोटे व्यू में Display करने का कार्य करते है। 



5. Validity- इस आप्सन के द्वारा हमे जितने एरिये में वैलीडिटी लगानी होती है पहले हम उतने एरिये को सिलेक्ट कर लेते है और फिर हम वैलिडिटी सेट कर देते है जैसे लगाये गये एरिये में हमारे द्वारा सेट की गई वैल्यू ही टाइप हो अन्य कोई नहीं। 


6. Sub Total- इसकी सहायता से हम अलग-2 खरीदे गये आइटमों का आसानी से सब टोटल निकाल सकते है जैसे – कुछ सामान हमने 20, कुछ 30, कुछ 50 के खरीदे अब हम चाहते है कि 20 वाले आइटमों का रेट अलग, तथा 30 व 50 वाले आइटमों को रेट अलग-2 दिया जाये तो हम इस आप्सन के द्वारा यह कार्य आसानी से कर सकते है। 


7. Form- इस आप्सन के द्वारा हम Spreadsheet प्रोग्राम में Type Data को Data Entry Form मे Convert करने का कार्य करते है। 


8. Text to Column- इस आप्सन के द्वारा हम एक ही सेल मे टाइप डाटा को अलग-अलग Column में सेट करने का कार्य करते है। 


9. Consolidate - इस आप्सन के द्वारा हम अलग-अलग शीट पर लगाये गये फीगर को मर्ज कर एक ही शीट पर सेट करने का कार्य करते है। जैसे एक सीट पर जनवरी का डाटा है तथा दूसरी शीट पर फरवरी का आपको मार्च का डाटा जनवरी व फरवरी दोनो को जोडकर एक ही शीट पर लाना है तो हम इस आप्सन के द्वारा यह कार्य आसानी से कर सकते है। 

10. Group and Outline- इस आप्सन के द्वारा हम सिलेक्ट किये गये डाटा को ग्रुप अथवा अनग्रुप करने का कार्य करते है। 



TOOLS MENU 


1. Spelling and Grammar (F7) - पैराग्राफ करते समय जिन वर्डो के नीचे रेड लाइन आती वो स्पेलिंग गलतिया कहलाती हैं तथा जिन वर्डो के नीचे ग्रीन लाइन आती है वो ग्रामिटिकल गलतिया कहलाती है इन गलतियों को हम इस आप्सन के द्वारा सहीं कर सकते है। 


2. Thesaurus/Languages- इस आप्सन के द्वारा हम Word का पर्यायवाची एवं किसी Word को किसी अन्य Languages में ट्रांसलेट करने का कार्य करते है। 


3. Auto Correct- इस आप्सन के द्वारा हम पैराग्राफ टाइप करने से पूर्व अपनी आवष्यकतानुसार आप्सन को सेट कर देते है और जैसे ही हम कोई पैराग्राफ टाइप करते है यह आप्सन उसे अपने आप सहीं करता जाता है। 


4. Goel Sheek - इसकी सहायता से हम निकाली गई वैल्यू में आसानी से घटाव अथवा बढ़ाव कर सकते है। जैसे आपने 2-3 समान खरीदे जिनका मूल्य कुल 350 है अब अब चाहते है कि यह 400 हो जाये अथवा 300 तो हम इस आप्सन के द्वारा यह कार्य आसानी से कर सकते है। 


5. Detective- इस आप्सन के द्वारा हम टाइप की गई फीगर एवं निकाली गई वैल्यू को ट्रेस करने का कार्य करते है। 


6. Protect Sheet/Protect Sheet Structure- इस आप्सन के द्वारा हम Sheet तथा Sheet के Structure को Password देकर Protect करने का कार्य करते है। 


WINDOWS MENU



1. New Window- इस ऑप्शन पर क्लिक करते ही खुली हुई windows की एक नई कॉपी बन जाती है। 


2. Close Window- इस ऑप्शन पर क्लिक करते ही खुली हुई windows बंद हो जाती है।


अंत मे 

आशा है की आपको पूरी पोस्ट पढ़ने के बाद Libre Office Calc के बारे मे पूरी जानकारी हो गई होगी, अगर इस पोस्ट से समबन्धित को अन्य सवाल हो या सुझाव हो तो Comments कर अवश्य बताए।

Also read 
CCC Libre Office Impress Notes, लिब्रे ऑफिस इम्प्रेस नोट्स 
CCC Libre Office Writer Notes / लिब्रेआफिस राइटर - New!

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां