Latest Post

6/recent/ticker-posts

4 Differences between Krutidev and Mangal Remington Gail Typing in Hindi

Krutidev and Mangal Remington Gail Typing के बीच में अंतर Mangal Remington Gail कीबोर्ड टाइपिंग का विकास इसलिए किया गया ताकि वो अभ्यर्थी जिनको कृतिदेव टाइपिंग आती है वो भी मंगल फॉन्ट में हिन्दी टाइपिंग कर सकें। REMINGTON GAIL भी KRUTIDEV FONT की तरह ही होता है, परंतु सुविधा के लिए इसमें कुछ बटनों में बदलाव किया गया है। तथा इसकी कार्य प्रणाली भी कृति देव फॉण्ट से थोड़ी अलग है। तो चलिए जान लेते हैं कि कृतिदेव और रेमिंग्टन गेल टाइपिंग  में।

क्या अंतर हैं तथा पोस्ट पसंद आने पर शेयर और कमेंट्स कर हमें बताए की पोस्ट आपको कैसी लगी.

4 Differences between Krutidev and Mangal Remington Gail Typing in Hindi


4 Differences between Krutidev and Mangal

 Remington Gail Typing


वैसे तो दोनों टाइपिंग के बीच में कई सारे अंतर है लेकिन मै आपको यहाँ पर 4 मुख्य अंतर बताने जा रहा हु जो इस प्रकार है :-


पहला अंतर — कृतिदेव टाइपिंग व्याकरण पर आधारित नहीं है अर्थात् कृतिदेव टाइपिंग के दौरान आपको प्रत्येक वर्ण को या तो टाइप करना होता है या फिर शॉर्टकट कीज का प्रयोग कर बनाना होता है जबकि मंगल फॉन्ट का रेमिंग्टन गैल टाइपिंग  पूरी तरह व्याकरण आधारित होता है जिसमें आप हलंत के प्रयोग करके नए-नए  मिश्रित वर्ण को बना सकते हैं। उदाहरण के लिए मंगल फॉन्ट में टाइपिंग के समय राष्ट्र में उपयोग हुआ ट्र का र बनाने के लिए शॉर्टकट कीज की जरूरत नहीं है होती अपितु ट के बाद र दबाने से ही ट्र बन जाता है। इसी प्रकार से ह में हलंत लगाकर म लिखने से ह्म बन जाता है। ठीक ऐसे ही अन्य वर्ण को भी हलंत का प्रयोग कर बनाया जा सकता है ।


दूसरा अंतर — कृतिदेव फॉन्ट में टाइपिंग करने के लिए किसी प्रकार के इनपुट सॉफ्टवेयर की जरूरत नहीं होती है जबकि रेमिंग्टन गैल पर टाइपिंग करने के लिए आपको HINDI INDIC INPUT TOOLS को अपने कंप्यूटर में इंस्टॉल करना होता है। इसके बिना आप रेमिंग्टन गैल लेआउट पर टाइपिंग नहीं कर पाएंगे ।




तीसरा अंतर — हालांकि रेमिंग्टन गैल टाइपिंग पूरी तरह से व्याकरण आधारित होती है​ जिसमें हम दो वर्ण को मिश्रित करके नये वर्ण बना सकते हैं परंतु कुछ ऐसे वर्ण होते हैं जिनको केवल शॉर्टकट के द्वारा ही बनाया जा सकता है। इनके लिए रेमिंग्टन गैल टाइपिंग में भी शॉर्टकट कीज की व्यवस्था की गई है इसमें हमें कम शॉर्टकट कीज का प्रयोग करना होता है जबकि कृतिदेव फॉण्ट में शॉर्टकट कीज इससे पूर्णत: भिन्न होती हैं तथा कृति देव फॉण्ट में शॉर्टकट कीज जायदा है जैसे लखनऊ को लिखने के लिए ‘ऊ’ बनाने के लिए हमें Alt+0197 का प्रयोग कर बनाना होगा. आप कृतिदेव की शॉर्टकट कीज को रेमिंग्टन गैल के लिए उपयोग नहीं कर सकते हैं।

चौथा अंतर — चूंकि रेमिंग्टन गैल व्याकरण पर आधारित होती है इसलिए व्याकरण के नियमानुसार मात्रा का प्रयोग वर्ण के बाद होगा। जबकि कृतिदेव में​ मात्रा वर्ण के पहले टाइप की जाती है।


अंत में

आशा है की पूरी पोस्ट को पढने के बाद आपको Krutidev and Mangal Remington Gail Typing के बीच में क्या अंतर है समझ में आ गया होगा. अगर इस पोस्ट से सम्बंधित कोई भी सवाल हो तो हमें कमेंट्स कर पूछ सकते है जल्द ही हमारी टीम आपके सवालो का जवाब आप को देगी. 

 

 हिंदी टाइपिंग टेस्ट के लिए मंगल फॉण्ट क्यों अनिवार्य है


टाइपिंग स्पीड बढ़ाने के 5 बेहतरीन टिप्स -

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां