Latest Post

6/recent/ticker-posts

Website किसे कहते है तथा Static और Dynamic Webpage में क्या अंतर है ?

आज की इस पोस्ट मे आप जानेंगे की Website तथा Webpage क्या होते है तथा Webpage कितने प्रकार के होते है तथा Email से समबन्धित बहुत सारी जानकारिया तो पूरी पोस्ट को ध्यान से पढे एवं पोस्ट पसंद आने पर Share और Subscribe जरूर करे ताकि मेरी आने वाली सभी Post की Notification आप को मिलती रहे।


What is website [website क्या होती है?] 

आज इंटरनेट के युग मे हम सभी किसी न किसी जानकारी के लिए इंटरनेट पर निर्भर होते जा रहे है और आज सभी तरह की जानकारिया ऑनलाइन उपलब्ध है और इसे देखने के लिए हमको किसी न किसी वेबसाइट को विजिट करना पड़ता है| वेबसाइट का मतलब है एक ऐसी जगह जहाँ पर बहुत सारी जानकारियों को वेब पेज के रूप में स्टोर करके रखा गया है | जैसे मान ले कोई होटल की website है तो उस पर होटल से सम्बिन्धत सारी जानकारी को वेब पेज मे स्टोर करके वेबसाइट पर डाल दिया जाता है | वेबसाइट को परिभाषित करने के लिए कहा जा सकता है की वेबसाइट एक ऐसी जगह है जहाँ पर बहुत सारे वेब Pages के रूप में जानकािरयों को स्टोर करके रखा गया है और उस वेबसाइट के web pages को कोई भी यूजर इंटरनेट से कनेक्ट करके देख सकता है | जैसे मान लेते है की आप किसी कंपनी के बारे मे इन्फोर्मेशन सर्च कर रहे है तो आपको इंटरनेट से कनेक्ट करने के बाद उस कंपनी की वेबसाइट पर जाना होगा | एक बार आप उस वेबसाइट को ओपन कर लेंगे तो वहाँ पर आपको बहुत सारे Pages जैसे – Home, about Us, contact us आदि मिलेंगे जिन पर company की सारी information दी होगी | Website पर उपलब्ध इन सभी Pages को Web Pages कहा जाता है| जैसे हमारे संस्थान की website www.excellentcomputereducation.com  है .


What is Webpage [Webpage किसे कहते है?] 

एक Website में जो Pages होते है उन्हें Webpage कहा जाता है जैसे – Home, about us, contact us etc. Website के पहले Page को Home Page कहते है. 


Types of Webpage [Webpage के प्रकार] 

Web Page दो प्रकार के होते हैं static और dynamic आइये दोनों के बारे में विस्तार से जानते हैं- 


1. Static Web Page 

ये web pages हमारे ब्राउज़र में ठीक वैसे ही लोड होता है जैसा web server पे रखा होता है। यानि जो फाइल server पे जैसे रखी होती है वैसा ही हमारे ब्राउज़र में लोड होती है। इस प्रकार के webpage में जब ब्राउज़र किसी server को किसी static web page के लिए request भेजता हैं तो server उस फाइल में बिना कोई छेड़-छाड़ किये हमारे ब्राउज़र तक भेज देता है। इस प्रकार के web pages में केवल static इनफार्मेशन होती है जिसमे यूजर केवल उस जानकारी को पढ़ सकता है लेकिन उसमे कोई और काम नहीं कर सकता। 

static webpage को html coding के जरिये बनाया जाता है और इस तरह के page तब बनाएं जाते हैं जब web page में बार-बार किसी बदलाव की जरूरत नहीं होती है यानि जो एक बार जैसा बन गया वैसा बन गया । 


2. Dynamic Web Page 

ये static web page से पूरी तरह से अलग होते है क्योकि इस तरह के web page हमारे ब्राउज़र में ठीक वैसे लोड नहीं होते जैसा की web server पे रखा जाता है बल्कि इसमे server Process करके Different चीजें लोड करता है। 

यह ऐसे web page होते है जिसमे बार-बार बदलाव की जरुरत होती है तथा इनका मकसद केवल इनफार्मेशन देना नहीं होता है dynamic website में हमे अलग-अलग Function देखने को मिलते हैं जैसे- sign up, Log in, Comment box आदि। 

 

What is Upload and Download

Upload का अर्थ है आपके कंप्यूटर से डेटा इंटरनेट पर भेजा जा रहा है। इसके उदाहरण में ईमेल भेजना, सोशल मीडिया साइट पर फ़ोटो पोस्ट करना आदि शामिल है। यहां तक कि किसी वेब पेज के  लिंक पर क्लिक करने से एक छोटे से डेटा अपलोड हो जाता है। डाउनलोडिंग का अर्थ है कि आपका कंप्यूटर इंटरनेट से डेटा को प्राप्त कर रहा है

 Gmail क्या है ?

Gmail एक नि:शुल्क POP3 और IMAP वेब मेल सेवा गूगल के द्वारा उपलब्ध कराई गई है 

Gmail Account कैसे बनाये? 

आजकल प्रत्येक फार्म को भरते समय उसमे एक field होती है जिसमे आपसे आपका E-mail ID पूछा जाता है जो की जरुरी मानी जाती है इसलिए आप सभी को जल्द से जल्द अपना e-mail id बनाना चाहिए

Email Id कैसे बनाते है ?

Email Id  बनाने के लिए सबसे पहले अपने browser पर www.google.com type करे और enter करे जिसके बाद आप एक page पर पहुंचेंगे जो कि नीचे दिखाई image जैसा दिखेगा

 

Website किसे कहते है

इसमे आप create account  पर click करे

आपको एक form fill करना है जिसकी सभी field आपकी basic information है जैसे :- 

Name

इस field में अपना name और surname fill करें

Create user id : 

इस field में अपना email id fill करे जो कि एक unique id होना चाहिए और ऐसा भी जो आपको आसानी से याद रहे | यह id आपके gmail account का name है जिससे आपकी एक unique identity show होगी | यह user id ही आपका email पता बनेगा इसलिए इसको सोच समझ कर इसे भरना होता हैा 

Create Password : 

इस field में हमें अपना पासवर्ड देना होता है पासवर्ड ऐसा होना चाहिए जो आपको आसानी से याद रहे और इसे किसी अन्य से share ना करें

Re-enter Password: 

आपके द्वारा choose किया गया password जो आपने उपर वाली field में fill किया उसे फिर से दोबारा fill करे  

Birthday: 

इस field में अपनी birth date fill करें

Gender: 

यह भी एक drop down box है जिसमे 3 field है 1. Male 2.Female 3.Other इनमे से एक field select करें

Mobile Number: 

इस field में आप अपने मोबाइल न0 को fill करे

Current Email Address: 

अगर आपका कोई अन्य email id है तब आप इस field में fill कर सकते है और अगर नहीं है तब आप इसे भी blank छोड़ सकते है

 अब आपने जो अपना mobile number fill किया है उस पर एक verification code मिलेगा जिसे नीचे के blank box में लिखे यह एक security check है

 Location: 

यहॉ से अपनी countryको select करे

इसके बाद सारी terms and condition read करने के बाद blank box पर click करे जिससे वह select हो जायेगा

इसके बाद next button पर click करें और इस प्रकार से आपका Gmail account create हो जायेगा तथा इस window को close करके आप पुनः अपने browser पर https://www.google.com/ लिखे एवम enter करे और आप login page पर पहुंचेंगे

इसमें आप अपना login id एवम password fill करे sign in पर click करे| अब आप अपने gmail account में है तथा काम पूरा करने के बाद आप अपने account को sign out करना कभी ना भूले

Difference between Email and Gmail 

E-mail क्या है? 

Email का मतलब होता है Electronic Mail 

किसी भी Message को Online एक जगह से दूसरे जगह भेजने के process को Email कहा जाता है

Gmail क्या है

यह Email भेजने का service होता है जो की Google के द्वारा provide किया गया है| जैसे अगर आप offline यानि की डाक के द्वारा किसी message को एक जगह से दूसरे जगह पर भेजते हैं तो उसमें डाकिया की जरुरत पड़ती है ठीक उसी प्रकार हमें Online किसी भी message को भेजने के लिए कोई website की जरुरत पड़ती है जो की हमारे संदेश को एक जगह से दूसरे जगह पहुँचा सके और यही काम Gmail करता है

 Email के Important Terms 

Website किसे कहते है
 1. Compose 

इसका मतलब होता है कुछ भी लिखना किसी के पास ईमेल भेजने के लिए हम कंपोज का इस्तेमाल करते हैं 

2. Inbox 

इनबॉक्स का ऑप्शन आपको एक फोन के मैसेज बाक्स में भी देखने को मिलता है जैसे हमारे फोन के मैसेज बाक्स में सभी मैसेज इनबाक्स में दिखाई देते है उसी प्रकार से ईमेल में भी इनबॉक्स का वही काम होता है जो कि हमारे एक सामान्य फोन के अंदर होता है जब कोई व्यक्ति आपके पास कोई मेल भेजेगा तो वह आपको इनबॉक्स में दिखाई देगा जहां से आप उस ईमेल को पढ़ सकते है.

3. Starred और Important 

हमारे पास बहुत सारी ईमेल आते हैं जिनमें से काफी ईमेल हमारे बहुत काम की होती हैं और काफी ईमेल हमारे कुछ काम की नहीं होती या थोड़े बहुत काम की होती है तो इन सभी मेल को अलग अलग रहने के लिए हम Important और Starred फीचर का इस्तेमाल करते हैं अगर कोई ईमेल बहुत ज्यादा जरूरी है तो उसे हम Important या Starred लगाकर अलग से सेव कर सकते हैं. 

4. Sent Mail 

जब हम कोई मेल भेजते हैं और वह मेल Successfully चला जाता है तो उसके बाद ही वह हमें Sent Mail के फोल्डर में मिलेगा. अगर आप दवारा लिखा गया मेल आई डी सही नहीं होगी तो मेल सही ढंग से सेंड नहीं हो पायेगा तो वह आपको इनबॉक्स के फोल्डर में मिलेगा और अगर आपने कोई मेल लिख कर छोड़ दिया तो वह आपको सिर्फ ड्राफ्ट के फोल्डर में मिलेगा. 

5. Drafts 

जैसा कि ऊपर आपको बताया गया कि अगर आप कोई ई मेल लिखकर उसे भेजना भूल जाते हैं तो वह ईमेल आपको ड्राफ्ट के फोल्डर में मिलेगी ड्राफ्ट के फोल्डर के और भी काफी सारे फायदे होते हैं जैसे कि अगर आप कोई ईमेल सेव रखना चाहते हैं तो उसे ड्राफ्ट की फोल्डर में सेव करके रख सकते हैं और बाद में उसे दोबारा एडिट करके किसी के भी पास भेज सकते हैं. 

6. Deleted  

जब हम कोई भी ईमेल डिलीट कर देते हैं तो वह हमें डिलीटेड आइटम के फोल्डर में मिलेगा अगर मान लीजिए आपने कोई ईमेल गलती से डिलीट कर दिया है और उसे अब आप वापस पाना चाहते हैं तो आप डिलीटेड आइटम के फोल्डर में उसे वापस रिस्टोर कर सकते हैं. 

इनके अलावा Gmail का और भी उपयोग होता है जैसे कि आप एक जीमेल की मदद से गूगल के सभी प्रोडक्ट और वेबसाइट को एक्सेस कर सकते हैं जैसे की अगर आपको यूट्यूब चैनल बनाना है तो आप अपनी ईमेल ID की मदद से YouTube पर लॉग इन करके अपना यूट्यूब चैनल बना सकते हैं. इसी तरह Google के और भी बहुत सारे प्रोडक्ट और वेबसाइट है जिनमें आपको Gmail ID की जरूरत पड़ती है. 

7. Spam : 

अगर कोई फालतू के emails करके आपको परेशान कर रहा है तो आप उसे अपने Gmail से हटा सकते है spam की मदद से। जिसके email को अपने हटाना है तो उसका email चुन लो और इस बटन पर क्लिक कर दे।अब से ये email आपको परेशान नही करेगा। 

8. Delete

किसी भी email को delete करने के लिए email चुनकर इस बटन पर क्लिक करना पड़ता है Delete का मतलब है कि हमें ये email नही चाहिए। Delete होने के बाद ये email Trash में चला जाता है। 

9. Trash 

यह बिल्‍कुल कुड़ेदान की तरह होता है यहॉं हमारे दवारा deleted किये गये सभी emails पड़े रहते है। अगर आप चाहते है कि आप इन Email को हमेशा के लिये delete कर दे तो trash मे जाकर delete forever पर क्लिक करे। 

Email ID के क्या फायदे है ?

Google की Email-Id बनाने से आप उसके सभी प्रोडक्ट को इस्तेमाल कर सकते हैं Email ID के बहुत सारे फायदे होते हैं जो कि आपको नीचे बताये गए हैं. 

• Email-Id  के दवारा हम किसी के भी पास उसकी ईमेल ID पर कोई भी डॉक्यूमेंट, फाइल, मैसेज भेज सकते हैं 

• Email-Id  का इस्तेमाल हम अपने Contact के रूप में भी कर सकते हैं जैसे कि अगर आप किसी को अपना कांटेक्ट नंबर देना चाहते हैं तो उसकी जगह आप अपनी ईमेल ID दे सकते हैं जिससे कि आपको आपकी ईमेल ID की मदद से कोई भी कांटेक्ट कर सकता है आज लगभग सभी बिजनेस के कोंटेक्ट ईमेल ID की मदद से ही किए जाते हैं .

• Email-Id  से आप अपने बिजनेस को बढ़ा सकते हैं अगर आपके पास बहुत सारी ईमेल ID है तो उन पर आप अपने बिजनेस से संबंधित ईमेल भेज कर अपने बिजनेस को बढ़ा सकते हैं. 

अन्त में 

आशा है की आपको पूरी पोस्ट पढने के बाद Website तथा Webpage क्या होते है तथा Webpage कितने प्रकार के होते है तथा Email से समबन्धित बहुत सारी जानकारिया  मिल गई होगी.


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां