Latest Post

6/recent/ticker-posts

यह भी जाने कोरोनावायरस क्या है ? COVID-19 रोग के कारण, लक्षण, रोकथाम के उपाय हिंदी में


आज की इस पोस्ट को लिखने का मेरा मकसद World मे जगह-जगह Corona virus के द्वारा फैल रही बीमारी के प्रति जागरूक करना है। वैसे Govt बहुत से माध्यमों द्वारा इसके प्रति लोगो को जागरूक करने का अभियान चला रही है तथा बहुत सारी websites एवं Video भी जनता को Corona virus के प्रति जागरूक करने के लिए पहल कर रही है। मैंने बहुत सारी websites का अध्यन किया यहा तक की WHO website का भी और मेरी आज की पोस्ट WHO website मे Corona virus के बारे मे दी गई knowledge’s का ही Hindi Translate है जो मैंने अपने Word मे लिखा है और मुझे आशा है की इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आप खुद भी जागरूक होंगे और अपने आस-पास तथा समाज को भी जागरूक करेंगे ताकि हमारे देश India तथा पूरे world मे इस बीमारी एवं इस Corona virus का जड़ से विनाश हो सके तो आए इस पोस्ट को ध्यान से पढे तथा पढ़ने के बाद इसको ज्यादा से ज्यादा लोगो को Share करे ताकि सब लोग इसके प्रति जागरूक हो यही हमारा मकसद है । 
coronavirus rog ke lakshan

Corona Virus क्या है तथा COVID-19 का Full Form क्या है ? 

COVID-19 Full Form is Corona Virus Disease 2019 है।

कोरोनावायरस रोग (COVID-19) एक नया वायरस है जिसके कारण संक्रामक रोग फैलता है। इस रोग के सुरुवाती लक्षण खांसी, बुखार और अधिक गंभीर मामलों में, सांस लेने में कठिनाई जैसे लक्षणों के साथ सांस की बीमारी के कारण हो सकते है। इस बीमारी से बचने के लिए आप अपने हाथों को बार-बार धोते रहे तथा अपने चेहरे को जैसे आंख, नाक और मुँह को छूने से बचे, तथा अस्वस्थ लोगों के संपर्क मे आने से भी बचे।
coronavirus lakshan

कोरोना वाइरस की शुरुआत 

यह नया वायरस और बीमारी दिसंबर 2019 में चीन के वुहान में फैलने से पहले अज्ञात थी अतः इसकी सुरवात चीन के वुहान जिले से हुई और धीरे-धीरे पूरे world  मे फैल गई।

कोरोना वाइरस बीमारी के लक्षण

COVID-19 रोग के सबसे आम लक्षण बुखार, थकान और सूखी खांसी हैं। कुछ रोगियों में दर्द, नाक बहना, गले में खराश या दस्त हो सकता है। ये लक्षण आमतौर पर हल्के होते हैं और धीरे-धीरे शुरू होते हैं। कुछ लोग संक्रमित हो जाते हैं लेकिन कोई लक्षण विकसित नहीं होते हैं और अस्वस्थ महसूस नहीं करते हैं। COVID-19 होने वाले प्रत्येक 6 व्यक्ति में से लगभग 1 व्यक्ति गंभीर रूप से बीमार हो जाता है और सांस लेने में उसको कठिनाई होती है। वृद्ध लोगों, और उच्च रक्तचाप, हृदय की समस्याओं या मधुमेह जैसी अंतर्निहित चिकित्सा समस्याओं वाले लोगों में यह बीमारी विकसित होने की अधिक संभावना है। बुखार, खांसी और सांस लेने में कठिनाई वाले लोगों की चिकित्सा मे इस समय विशेष ध्यान देना चाहिए।
coronavirus lakshan

कोरोना वाइरस किस तरह फैलता है ?

COVID -19, यह बीमारी नाक या मुंह से छोटी बूंदों के माध्यम से एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति में फैल सकती है जब COVID​​-19 द्वारा ग्रसित व्यक्ति खांसी या साँस छोड़ता है तो इससे जो बूंदें निकलती है वो व्यक्ति के आस-पास की वस्तुओं और सतहों पर उतरती हैं। अन्य लोग जब इन वस्तुओं या सतहों को छूकर, फिर अपनी आँखों, नाक या मुंह को छूते है तो COVID -19 उन व्यक्तिओ को पकड़ लेता हैं। यही कारण है कि बीमार रहने वाले व्यक्ति से 1 मीटर (3 फीट) से अधिक दूरी बना कर रहना जरूरी है।

क्या COVID-19 का वायरस हवा के माध्यम से भी प्रसारित हो सकता है?

अब तक के अध्ययनों से पता चलता है कि COVID ​​-19 का कारण बनने वाला वायरस मुख्य रूप से हवा के बजाय श्वसन बूंदों के संपर्क से फैलता है।

सभी के लिए सुरक्षा उपाय

आप कुछ साधारण सावधानियां बरतकर COVID -19 के संक्रमित होने या फैलने की संभावनाओं को कम कर सकते हैं:
  1. अपने हाथों को अल्कोहल-आधारित हाथ से नियमित रूप से और अच्छी तरह से साफ करें या उन्हें साबुन और पानी से धोएं।
  2. कम से कम 1 मीटर (3 फीट) की दूरी पर अपने आप को और किसी को भी, जो खांस रहा है या छींक रहा है, के बीच दूरी बनाए रखें।
  3. आंखों, नाक और मुंह को छूने से बचें।
  4. सुनिश्चित करें कि आप, और आपके आस-पास के लोग, अच्छी श्वसन स्वच्छता का पालन करें।  खांसी या छींक आने पर अपनी मुड़ी हुई कोहनी या ऊतक से अपने मुंह और नाक को ढंकना।
  5. यदि आप अस्वस्थ महसूस करते हैं तो घर पर रहें।
  6. यदि आपको बुखार, खांसी और सांस लेने में कठिनाई होती है, तो चिकित्सा पर ध्यान दें और पहले से ही (Helpline Number for corona-virus : +91-11-23978046 Toll Free No: 1075) पर संपर्क करें एवं अपने स्थानीय स्वास्थ्य प्राधिकरण के निर्देशों का पालन करें।
  7. यदि संभव हो, तो बाहरी स्थानों की यात्रा करने से बचें।

क्या इस Virus में कोई एंटीबायोटिक्स भी  कार्यरत  है ?

नहीं। एंटीबायोटिक्स वायरस के खिलाफ काम नहीं करते हैं, वे केवल बैक्टीरिया के संक्रमण पर काम करते हैं। COVID-19 वायरस के कारण होता है, इसलिए एंटीबायोटिक्स काम नहीं करते हैं। 

COVID-19 के खिलाफ खुद को और दूसरों को बचाने के लिए क्या तरीके है ?

1. COVID-19 के खिलाफ खुद को और दूसरों को बचाने के लिए सबसे प्रभावी तरीके हैं कि आप अपने हाथों को बार-बार साफ करें, अपनी खांसी को कोहनी या ऊतक के मोड़ से कवर करें और खांसी या छींकने वाले लोगों से कम से कम 1 मीटर (3 फीट) की दूरी बनाए रखें। ।
2. मास्क को छूने से पहले, अल्कोहल-आधारित हाथ रगड़ कर या साबुन और पानी से हाथ साफ करें।
3. मास्क को छूने या छोड़ने के बाद हाथ की सफाई करें ।

COVID -19 का भारत मे शुरुआत 

  1. 30 जनवरी को देश के पहले मामले की पुष्टि एक छात्र में हुई, जो वुहान विश्वविद्यालय चीन से केरल लौटा था।
  2. इसके बाद 2 फरवरी को, केरल में दूसरे मामले की पुष्टि हुई; व्यक्ति ने भारत और चीन के बीच नियमित रूप से यात्रा की थी।
  3. 3 फरवरी को केरल के कासरगोड में तीसरा सकारात्मक मामला सामने आया। मरीज ने वुहान की यात्रा की थी। तीनों तब से संक्रमण से उबर चुके हैं। लेकिन इसके बाद इस बीमारी की शुरुवात हमारे देश मे भी हमारी ही कुछ लपरवाहियों के कारण फैलने लगी जिसका  खामियाजा आज भारत का प्रत्येक राज्य भुगत रहा है ।

21 मार्च 2020 तक, स्वास्थ्य और परिवार कल्याण मंत्रालय, भारत देश में कुल 258 मामलों और 4 मौतों की पुष्टि की है।

इस प्रकोप के कारण  एक दर्जन से अधिक राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों में महामारी घोषित किया गया है, जहां महामारी रोग अधिनियम, 1897 के प्रावधानों को लागू किया गया है, और शैक्षणिक संस्थानों और कई वाणिज्यिक प्रतिष्ठानों को बंद कर दिया गया है। भारत ने सभी पर्यटक वीजा को भी निलंबित कर दिया है, क्योंकि अधिकांश मामले बाहरी देशों से जुड़े थे।

जनता कर्फ्यू [२२-०३-२०२०] की अपील 

दुनिया में कोरोना वायरस महामारी का एक बहुत ही बड़ा संकट का कारण बन चुका है, जिसके प्रकोप से भारत देश भी अछूता नहीं रहा है  ऐसी देश में फ़ैल रही भयंकर महामारी को देखते हुए माननीय श्री  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी ने लोगों को घरों में ही बने रहने की अपील की है और साथ ही रविवार २२ मार्च 2020 को सुबह 7 बजे से रात 9 बजे तक जनता कर्फ्यू को सफल बनाने की जनता से अपील की है. 
modi ji ka janta curfew

जनता कर्फ्यू लगाने का मुख्य उद्देश्य

प्रधानमंत्री श्री मोदी जी ने २२ मार्च [दिन रविवार] को देश में जनता कर्फ्यू लगाने की घोषणा की है जिसको लगाने का उनका मुख्य उद्देश्य कोरोना वायरस  महामारी को रोकना है।  जनता को इस पूरे दिन घर पर ही रहना होगा।  जिसके फलस्वरूप जनता कर्फ्यू हमें self Isolation [खुद से अलग रहने] की प्रक्रिया से अवगत करना होगा।  प्रधानमंत्री मोदी जी ने जनता कर्फ्यू को, जनता के द्वारा, जनता के लिए, स्वयं जनता पर, लगाया गया कर्फ्यू बताया है.    

अंत में

आशा है की इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आपको कोरोनावायरस क्या है ? COVID-19 रोग के कारण, लक्षण, एवं रोकथाम के उपाय के बारे में पर्याप्त जानकारी हो गई होगी। अतः इस पोस्ट को लोगो को ज्यादा  से ज्यादा शेयर करे ताकि लोगो में इसके प्रति जागरूकता फैले।


टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां