Latest Post

6/recent/ticker-posts

What is Cyber Crime and How to protect Cyber Crime in Hindi


आज कि इस पोस्ट मे हम पढ़ेंगे की Cyber Crime क्या है और कैसे इससे हम खुद को Safe रख सकते हैं। 

Cyber Crime क्या है ? 


What is Cyber Crime and How to protect Cyber Crime in Hindi


आज के समय मे हम बिना Internet के कोई कल्पना नहीं कर सकते। लेकिन इन सब के बीच Internet पर आधारित Crimes और अपराध भी बढ़े हैं, जो वर्तमान में भी बहुत बड़ा खतरा है । Future में तो ये और गंभीर होगा। Internet Users की संख्या में बेतहाशा वृद्धि हुई है, परिणामस्वरूप लोग Internet पर आधारित किसी न किसी Crime से भी जूझ रहे हैं। 

यही वजह है कि Cyber Crime लोगों के लिए एक बड़ी मुसीबत बन चुकी है। खासकर सोशल मीडिया के जरिए वायरस या ठगी अन्य तरह के अपराध के मामले ज्यादा बढ़ रहे हैं।

इंटरनेट का प्रयोग कर किये जाने वाले अपराधों को साइबर क्राइम कहा जाता है जिसमें कई प्रकार के अपराध आते हैं। साइबर क्राइम में ठगी, धोखाधड़ी, धमकी, कार्ड क्लोनिंग, छेड़छाड़ और आपत्तिजन कंटेंट शेयर या किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाने के अपराध प्रमुख रूप से आते हैं। 




Cyber Crime के तरीके ? 



What is Cyber Crime and How to protect Cyber Crime in Hindi

१. Hacking 


आप अपने निजी जानकारी एवं Data को निश्चित रूप से सुरक्षित रखने कि कोशिश करते हैं। यहाँ तक कि देखा जाता है कि लोग अपने Mobile को सिर्फ इसीलिए किसी को छूने नहीं देते क्योंकि उनका मानना होता है कि उसमे उनका Important और Personal Data होता है। पर सोचिए, अगर कोई बिना आपके अनुमति के आपके Mobile, Computer, Email, या यूं कहें कि आपके Personal Data चुरा ले तो आप को कैसा लगेगा? चौंक गए न! जी बिल्कुल। Hacking एक ऐसी ही प्रक्रिया है जिसमे बिना आपके अनुमति से, आपके सुरक्षा मानकों को तोड़कर, आपके important data तक पहुंचा जा सकता है और उसे चुराया जा सकता है। 

२. Virus 


Virus का full form होता है- Vital Information and Resources under Seize 

वस्तुतः Virus एक प्रकार का कम्प्युटर Program होता है जो बिना आपको बताए आपके computer में आता है और आपके data, programs, files इत्यादि को हानि पहुंचता है.   

३. Software Piracy 


Software Piracy के अंतर्गत ऐसे crime आते हैं, जिसमें एक Genuine Software को अवैध तरीके से copy, use और distribute किया जाता है। यानि किसी company के द्वारा तैयार किए गए असली software में छेड़-छाड़ कर उसका प्रयोग किया जाता है। 

४. Credit Card Fraud 


आज-कल सभी लोग क्रेडिट कार्ड का प्रयोग करते हैं। चाहे Online shopping की बात हो या bill payment की। Hotel में Room book करवाना हो या Travel के लिए reservation करवाना हो। यदि आप किसी Website पर अपने Credit Card का नंबर डालते हैं और transaction करते हैं और यदि वो सुरक्षित नहीं है तो Hackers के द्वारा आपके Credit Card का नंबर चुराया जा सकता है और भविष्य में उसका misuse किया जा सकता है। Credit Card Skimmer एक ऐसा device है जो Credit Card के information को पढ़ सकता है। इस Information को Internet के माध्यम से download किया जा सकता है। 


५. Phishing 


यह users को ठगने का एक ऐसा तरीका है जिसके द्वारा Bank और Account details गलत तरीके से और गलत मकसद से users से लिया जाता है। आम तौर पर ऐसे Link और Website तैयार किए जाते हैं, जो देखने में, उनके नाम में किसी बड़ी company के नामों का प्रयोग किया जाता है। ये उन company से इतने मिलते-जुलते हैं कि पहली नजर में कोई धोखा खा जाता है। परंतु जब गौर किया जाता है तो उनमें और original company के नाम, Website URL में थोड़ा सा अंतर होता है। लोग इसी में फंस के अपना details डाल देते हैं जिसके कारण उन्हें अत्यधिक नुकसान का सामना करना पड़ता है. 


Cyber Crime से बचने के उपाय


क्रेडिट कार्ड से निकासी की सीमा बनाए 


इस सुविधा से अगर क्रेडिट कार्ड की कभी क्लोनिंग हो जाए या चोरी हो तो भी आप ज्यादा नुकसान से बच सकते हैं। लेकिन इसके लिए जरूरी है कि आप क्रेडिट कार्ड से शॉपिंग नगद निकासी की सीमा 10-20 हजार रुपए से ज्यादा न रखें। इससे फायदा यह होगा कि चोरी करने वाला कम से कम रकम निकाल पाएगा और आप बहुत बड़े नुकसान से बच सकते हैं। 

एंटीवायरस का इस्तेमाल करे 

हैकिंग और डाटा चोरी की ज्यादातर घटनाएं वायरस के जरिए अंजाम दी जाती हैं। ऐसे में जरूरी है कि आप अपने कम्यूटर में एंटी वायरस लगवाएं। 

अनचाहे लिंक्स पर क्लिक करने से बचे 

वायरस और हैकिंग से बचना चाहते हैं तो फेसबुक, वॉट्सएप और ईमेल से आने वाले अनचाहे लिंक्स पर क्लिक न करें। सोशल मीडिया में कोई अनजाना शख्स कुछ मसेज करता है और किसी लिंक पर क्लिक करने के लिए कहता तो उससे सावधान रहें। 

समय-समय पर पासवर्ड बदलते रहें

आप अपने डेबिट कार्ड या क्रेडिट कार्ड या सोशल मीडिया अकाउंट का पासवर्ड समय समय पर बदलते रहें। पासवर्ड कम से कम 10 अंकों का रखें और कोशिश करें कि कोई नाम या डेट ऑफ बर्थ या मोबाइल नंबर जैसी चीजें उसमे न हों। 

अंत में 

आशा है की आपको पोस्ट पसंद आई होगी तथा Cyber Crime क्या है और कैसे इससे हम खुद को Safe रख सकते हैं समझ में आ गया होगा। अगर इससे समबन्धित कोई सवाल हो तो comment कर पूछ सकते है. 






टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां